Big Breaking : US में बाइडेन की जीत की घोषणा से पहले ट्रम्प समर्थकों का हिंसक प्रदर्शन

1 min read

अमेरिकी संसद में जुटे ट्रम्प समर्थक

गया लाइव डेस्क। विश्व के सबसे पुराने लोकतंत्र यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका में नए राष्ट्रपति जो बाइडेन के जीत की घोषणा के ठीक पहले ट्रम्प समर्थकों के द्वारा जमकर उत्पात मचाया गया। उग्र ट्रम्प समर्थकों के द्वारा अमेरिकी संसद में घुसकर जमकर तोड़फोड़ व हंगामा मचाया गया। इसे देखते हुए फिलहाल वाशिंगटन में कर्फ्यू लगा दिया गया है। सुरक्षा को देखते हुए नेशनल गार्ड्स को भी न्यूयॉर्क से वाशिंगटन भेजा गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार जिस वक्त राष्ट्रपति के तौर पर जो बाइडेन की जीत का ऐलान करने के लिए अमेरिकी संसद के संयुक्त सत्र में घोषणा की जानी थी, उसी दौरान रैली कर रहे ट्रम्प समर्थक हिंसक हो गए। दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र बुधवार को सबसे बड़े संकट में नजर आया। मौका भी साधारण नहीं था और घटना भी। वॉशिंगटन की कैपिटल बिल्डिंग में अमेरिकी कांग्रेस इलेक्टोरल कॉलेज को लेकर बहस कर रही थी और इसी बहस के बाद प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन की जीत की ऑफिशियल और लीगल पुष्टि की जानी थी। इसी दौरान मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के समर्थकों ने हजारों की तादाद में प्रदर्शन शुरू कर दिया। ट्रम्प समर्थक कैपिटल बिल्डिंग के भीतर दाखिल हो गए और अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव रद्द करने की मांग करने लगे। इस दौरान वे हिंसक हो उठे और उन्हें रोकने के लिए नेशनल गार्ड्स को एक्शन में आना पड़ा। ब्रिटिश अखबार डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कैपिटल बिल्डिंग में प्रदर्शन के दौरान एक महिला को गोली लग गई। जिसकी अस्पताल में मौत हो गई। बिल्डिंग से फायरिंग की आवाजें भी सुनी गईं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, कैपिटल बिल्डिंग के पास एक विस्फोटक डिवाइस भी मिली है। जिस वक्त ट्रम्प समर्थक कैपिटल बिल्डिंग में दाखिल हो रहे थे, उस दौरान यूएस के सांसदों को गैस मास्क पहनने को कहा गया, क्योंकि प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए सुरक्षा बलों को आंसू गैस भी छोड़नी पड़ी। आंदोलनकारी बिल्डिंग के भीतर दाखिल हो रहे थे, ऐसे में अधिकारियों और सुरक्षाकर्मियों ने अपनी बंदूकें भी निकाल ली थीं, ताकि हालात बिगड़ने पर उन्हें काबू किया जा सके। हिंसक प्रदर्शनों के बाद कैपिटल बिल्डिंग को अब सुरक्षित कर लिया गया है। एहतियातन वॉशिंगटन में कर्फ्यू लगाने की घोषणा की गई है। अधिकारियों का कहना है कि कर्फ्यू गुरुवार सुबह तक लागू रहेगा। अमेरिकी संसद के भीतर प्रदर्शनकारियों के दाखिल होने के बाद सुरक्षाकर्मियों ने हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स और सीनेट को खाली करवाया। इस दौरान ट्रम्प समर्थक नारा लगा रहे थे कि उन्होंने चुनाव जीत लिया है। यह प्रदर्शन तब शुरू हुए, जब ट्रम्प ने अपने समर्थकों को दिन में संबोधित किया और उनसे कैपिटल बिल्डिंग की तरफ मार्च करने की अपील की। लेकिन, जब समर्थक हिंसक हो गए तो ट्रम्प ने कहा कि हमारी पुलिस का सहयोग कीजिए, वो वास्तव में हमारे साथ हैं। आप लोग शांति बनाए रखिए। ट्रम्प ने कहा, “मैं अमेरिका की राजधानी में मौजूद हर शख्स से शांत रहने की अपील करता हूं। हम कानूनों को मानने वाली पार्टी हैं।’ हालांकि, ट्रम्प ने अपने समर्थकों से ये नहीं कहा कि वो इमारत के बाहर आ जाएं। इस दौरान ट्रम्प समर्थक इमारत के भीतर दाखिल होने के लिए पुलिस के साथ हाथापाई करते दिखाई दिए। इस हिंसा के बीच प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन ने ट्रंप से अपील की कि वो नेशनल टेलीविजन पर आएं और संविधान की रक्षा करें। बाइडेन ने कहा कि ट्रम्प को नेशनल टीवी पर जाकर इस उपद्रव को खत्म करना चाहिए।

अमेरिकी संसद में जुटे ट्रम्प समर्थक

वॉशिंगटन में हिंसा के बीच फेसबुक ने डोनाल्ड ट्रंप का एकाउंट ब्लॉक कर दिया है और उनके वीडियो को अपनी साइट से हटा दिया है। इस वीडियो में ट्रंप अपने समर्थकों को संबोधित करते दिख रहे हैं। फेसबुक के वाइस प्रेसिडेंट ने कहा कि ऐसा करने से हिंसा में कमी लाने में मदद मिलेगी। इसके साथ ही ट्विटर ने भी ट्रंप के उस वीडियो ट्वीट पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिसमें उन्होंने चुनाव को फर्जी बताया था। ट्विटर ने उस वीडियो पर लेबल लगा कर मैसेज लिखा है कि हिंसा की आशंका को देखते हुए इस वीडियो पर लाइक, रिप्लाई और री ट्वीट नहीं किया जा सकता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *