मविवि सिंडीकेट ने पारित किया 719 करोड़ रुपए घाटे का बजट

1 min read

गया(कुमुद रंजन)। गुरुवार को मगध विश्वविद्यालय की सिन्डिकेट ने 719 करोड़ के घाटे का बजट पारित किया। सिन्डिकेट के बैठक की अध्यक्षता कुलपति प्रोफेसर डॉ राजेंद्र प्रसाद ने की। सिन्डिकेट की वार्षिक (अभिषद) बैठक में पिछले सिन्डिकेट की बैठक जो 4 फरवरी 2020 को हुई थी की कार्यवृत्त की पुष्टि की गई। पूर्व में हुई परीक्षा समिति की कार्यवाही का भी अनुमोदन किया गया। वित्तीय समिति जो 12 जनवरी 2021 को हुई थी के कार्यवृत्त का भी अनुमोदन किया गया इसमें लगभग 719 करोड़ के बजट घाटे का प्रस्ताव है।भवन समिति जिसकी बैठक 7 जनवरी 2021 को हुई थी के कार्यबृत का अनुमोदन किया गया। कल ही हुई विद्वत परिषद के कार्य बृत का अनुमोदन किया गया। इसके अलावा डॉक्टर बागीशा सुमन सहायक प्राध्यापक राजनीतिक शास्त्र मगध विश्वविद्यालय बोधगया के इस्तीफे को स्वीकृति दी गई। डॉ एल. एन. सिंह मनोविज्ञान विभाग मगध विश्वविद्यालय बोधगया के स्वैच्छिक सेवानिवृति की स्वीकृति दी गई। प्रोफ़ेसर एल के मिश्रा भौतिकी विभाग के स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति की अनुमति दी गई। डॉक्टर कौशलेंद्र कुमार सिंह समाजशास्त्र विभाग कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स पटना को 2010 से 2013 तक लियन पर जाने की अनुमति दी गई।मगध विश्वविद्यालय के मेडिकल ऑफिसर की सेवानिवृति उम्र 65से बढ़ाकर 67साल की गई। इसकी अधिसूचना राज्य सरकार ने जारी की थी। बैठक में प्रतिकुलपति प्रोफेसर वी.एन. सिंह के साथ विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ विजय कुमार सहित कुल 17 लोगों ने भाग लिया। बैठक के बाद मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर खाने में लोगों ने चूड़ा, दही व तिलकुट आदि का आनंद उठाया। सिन्डिकेट के कार्यवृत्त की जानकारी विश्वविद्यालय के पीआरओ संजय कुमार ने दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *