एक्सीडेंट बना दोहरे हत्याकांड का मामला, पुलिस को गुमराह करने के लिए अपराधियों ने रची थी एक्सीडेंट की साजिश, पुलिस जांच में जुटी

1 min read

फतेहपुर प्रतिनिधि गया। बुधवार की रात सड़क हादसे की घटना गुरूवार की सुबह होते होते हत्या में घटना में तब्दील हो गया। गया – फतेहपुर सड़क मार्ग के पथरा मोड़ के पास दो युवक मृत अवस्था में सड़क पर पाया गया। पास में ही बिना नंबर अंकित सफेद रंग की बुलेट पाया गया। ग्रामीणों को लगा कि सड़क हादसे में दोनों की मौत हुई है। घटना की सुचना पर टनकुपपा थाना की पुलिस मौके पर पहुंच कर बुधवार की रात पोस्टमार्टम के लिए मगध मेंडिकल अस्पताल भेज दिया। रात तक पहचान नहीं होने के कारण पुलिस भी सड़क हादसा मानकर चल रहीं। पर घटना स्थल पर खुन के निशान नहीं रहने के कारण मामला सदिगध लग रहा था । गुरूवार की सुबह दोनों की पहचान हुई तो मामला हत्या का निकाला। दोनों युवक गया शहर के रहने वाले थे। मृतक के परिजनों का आरोप है कि अगवा करके हत्या करने के बाद दोनों के शव को टनकुप्पा थाना क्षेत्र में फेंक दिया गया और इसे एक्सीडेंट का रूप देने की कोशिश की गई।

मृतकों की पहचान राजू यादव मगध मेडिकल थाना क्षेत्र के नैली गांव के पुत्र राहुल कुमार के रूप में हुई है। वहीं दूसरे युवक की पहचान विष्णु पद थाना क्षेत्र के चांद चौरा निवासी तारकेश्वर सिंह के पुत्र आकाश कुमार के रूप में हुई है। दोहरे हत्या की इस घटना को लेकर परिजनों में काफी आक्रोश व्याप्त है। मेडिकल में शव लाए जाने के बाद लोगों में काफी गुस्सा दिखा।

घटना को लेकर कई अपराधियों की संलिप्तता सामने आई है। इसमें कुछ के नाम भी मृतक के परिजनों ने बताए हैं। फिलहाल मामले में टन कुप्पा पुलिस जांच कर रहीं। हत्या के कारणों में जमीन की आपसी लड़ाई और किसी अपराधी से विवाद बताया जा रहा है। मृतकों के परिजनों का कहना है कि पुलिस इस मामले में सभी अपराधियों को तुरंत गिरफ्तार करें। मेडिकल में काफी देर तक लोगों में रोष व्याप्त दिखा गया। मृतक राहुल कुमार के पिता राजू यादव जो खटाल चलाते हैं उन्होंने बताया कि मेरे पुत्र की हत्या साजिश के तहत की गई है। वहीं मृतक आकाश के परिजन और दोस्तों का कहना है अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया है।
आकाश की इस साल हुई थी।
चांदचौरा निवासी आकाश की इस साल ही फतेहपुर प्रखंड क्षेत्र के कोड़िया गाँव में रविन्द्र यादव की बेटी कंचन कुमारी से हुई थी। बरामद बाइक कंचन कुमारी के नाम पर हैं। आकाश के पिता सरकारी कर्मी हैं । आकाश बालु के कारोबार से भी जुड़ा बताया जाता हैं। बुधवार की शाम सात बजे तक आकाश को भुसंडा बाइपास के पास एक वयकति के साथ देखा गया था। साथ ही उसके पिता से सात बजे के करीब बात हुई। उसके बाद दोनों का शव एक घंटे के अन्दर बाइपास से 16 किलोमीटर दूर लाकर अपराधियों ने फेंका था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *